नाहन (शैलेंद्र कालरा) : महज 27 साल की उम्र में बबीता शर्मा का डयूटी के प्रति समर्पण हैराbabita-2न कर देने वाला है। शायद ही कोई विश्वास करे, लेकिन हकीकत है कि चूड़धार चोटी के 46,800 बीघा वन्यप्राणी क्षेत्र की बबीता बेखौफ सुरक्षा करती है। एक कदम पर भालू-तेंदुए के हमले का खतरा होता है तो दूसरे कदम पर लकड़ी के तस्कर, वहीं तीसरे कदम पर जड़ी-बूटियों के तस्करों से कब आमना-सामना हो जाए, खुद बबीता को नहीं पता होता।

       इस बात को भी बहुत ही कम लोग जानते होंगे कि वनरक्षक के पद पर तैनात इस समय चोटी पर तस्करों के साथ-साथ वन्यप्राणियों के शिकारियों के लिए बबीता खौफ बन चुकी है। चीते की तरह फुर्तीली बबीबा कब, कहां आ धमके, इसका खौफ तस्करों की आंखों में हर वक्त तैरता है। कई मर्तबा ट्रांसगिरि क्षेत्र के टिटियाना की रहने वाली बबीता दो-तीन दिन जंगलों में ही रात गुजारती है।

        विश्वास करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, लेकिन खुद बबीता की जुबानी है कि जंगलों में रात बिताने के दौरान भालुओं का सामना तो हुआ ही, साथ ही एक मर्तबा जड़ी-बूटियों के तस्करों से भी सामना हुआ। विभाग ने बबीता को छोगटाली व नौहरा बीट की जिम्मेदारी दी है, लेकिन साथ सटी शिमला जिला की बीटस में भी हलचल होने पर चौकन्नी हो जाती है। एक मार्च 2016 को इस इलाके की कमान बतौर फोरैस्ट गार्ड संभाली थी, तब से डयूटी के लिए खुद को समर्पित कर दिbabitaया।

           एमबीएम न्यूज से बातचीत में बबीता ने कहा कि डयूटी ज्वाइन करते ही सौगंध ली थी कि वन संपदा व वन्यप्राणियों की रक्षा के लिए जीवन समर्पित करेंगी। नौहराधार रेंज के अंतर्गत कार्यरत बबीता कहती है कि हमेशा ही वन तस्करों के निशाने पर रहती है। कहना है कि इन दिनों सतुवा जड़ी-बूटी चोटी पर मौजूद है। इसकी तस्करी को रोकना फिलहाल चुनौती है। खुद मानती हैं कि कई रातें जंगलों में बिताई हैं।

पारिवारिक पृष्ठभूमि

babita-chuddharदो अक्तूबर 1988 को जन्मी बबीता शर्मा चार भाईयों की इकलौती बहन है। एक भाई आयुर्वैदिक विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है, दूसरा भाई भारतीय सेना में इस वक्त 72 डोगरा में उरी में तैनात है। तीसरा भी वन विभाग में फोरैस्ट गार्ड के पद पर तैनात है। चौथा भाई प्रतियोगितात्मक परीक्षा की तैयारी में लगा है। पिता उदयराम शर्मा व मां रुकमणी देवी ने दिहाड़ी कर व घी बेच कर बच्चों को काबिल बनाया।

पढि़ए, बबीता की डयूटी से जुड़े कुछ खास पहलू।

  • हर रोज करीब 30 से 40 किलोमीटर जंगलों की खाक छानती है।
  • इलाका जड़ी-बूटी की तस्करी के लिए भी संवेदनशील है। 20 अगस्त को तस्करों का सामना भी हुआ।
  • 22 अगस्त को बैरोग के नजदीक शिकारियों से आमना-सामना हो गया, जिन्हें खदेडऩे में कामयाबी हासिल की।
  • हाल ही में 20 सितंबर को मादा भालू सामने थी, जिसके साथ कुछ दिन पहले पैदा हुए बच्चे भी थे। सोचिए, मादा कितनी खतरनाक हो सकती थी।
  • घाटी में चार ऐसे प्वाइंटस हैं, जहां वन काटू चंद मिनटों में ही कुल्हाड़ी चला देते हैं। उच्च तकनीक से पेड़ों को काट दिया जाता है, जिन्हें राजगढ़ के पैनकुफर क्षेत्र के माध्यम से सडक़ तक पहुंचाया जाता है।

31 Responses to "सैल्यूट : सिरमौर में चूड़धार घाटी की पहरेदार Lady सिंघम ‘बबीता’, गुफाओं में अकेले बिताती हैं रातें।"

  1. R.K.sharma  September 25, 2016

    It,s good
    I m proud of u
    Agr esi trhe nokri krney wale apni duty achecse krenge to koii problm ni h mere desh m bahut ameer h hm pr kamchor or hraamo ki bjhecse loss m h

    Reply
  2. O. P. Verma RO(Retd.)  September 25, 2016

    Brave forest guard. Keep it up. Nora dhar is a sensitive area.

    Reply
  3. Natter singh  September 26, 2016

    Very good for sirmour/ we proud of her,& proud all himachali.

    Reply
  4. pankaj rajput  September 26, 2016

    mne dkha tha tha inko chud dhar mai………jai chudeshwar mharaj….

    Reply
  5. Rajeshwari  September 26, 2016

    Proud of you babita

    Reply
  6. UC Bhatnagar  September 26, 2016

    Adventurous girl. We proud of you. Keep it up.

    Reply
  7. Rajkumar  September 27, 2016

    Very good for armour/Chopal great job we salute….

    Reply
  8. Manish  September 27, 2016

    Sabash babita we proud member of you

    Reply
  9. Pawan  September 28, 2016

    You are great love you

    Reply
  10. vipan rangra  September 28, 2016

    Jhansi ki Rani ……salute to one women army….nd I m big salute to ur parents,,

    Reply
  11. dr kaundal  September 29, 2016

    Great. ……..proud of you. ..take care. …..wish u all the best……good. …..Once again keep it up

    Reply
  12. Prateek  September 29, 2016

    Proud to be an Indian! Salute to this girl Forest Guard….Where some of forest guard even not going duty near the road side…….. In the same state Ms. Babita is doing her best towards her responsibilities….. Best dedication towards the society pays a lot in future…… Best Regards, Prateek
    Field Officer, IIT Mandi

    Reply
  13. rajesh raho  October 5, 2016

    proud of u babita ji and proud of tityana

    Reply
  14. rajesh rahi  October 5, 2016

    proud of u babita ji and proud of tityana

    Reply
  15. M.D.kaushal  November 13, 2016

    जब भालूओ से सामना हाेता है तो वे बबीता जी से गले मिलते होगे। हर रोज 30-40 कि मी जगलो की खाक छानना ब दो तीन दिन जगलो मे अकेले रहना, वाक़ई बबीता जी दुनिया का आठवा अजूबा हे ,एैसी शख्सियत को खो मेरा कोटी कोठी नमन।

    Reply
  16. Yeshwant thakur  November 15, 2016

    Proud of you Babita g

    Reply
  17. Er PK Nirala  November 16, 2016

    Great work devotion. You should be credited with rewards or incentives,

    Reply
  18. Akash  November 17, 2016

    The nature of their lives are protected , by plying
    We are proud of you

    Reply
  19. Rakesh  November 20, 2016

    I like your spirit

    Reply
  20. Sherjung sharma  December 2, 2016

    बबीता शर्मा की दिलेरी को सलाम
    जय हिन्द ,जय हिमाचल

    Reply
  21. Manoj Rajpoot  December 2, 2016

    Keep up with your good work.

    Reply
  22. Ginni  December 3, 2016

    Maine b dekha h ise churdhar m

    Reply
  23. v.k.sharma  December 3, 2016

    Proud of you lady singham BABITA JI

    Reply
  24. Sudhir Chauhan  December 4, 2016

    Sirmour me easi hi betiyo ki jarurat hai …….. I wish you good luck… miss Babita ji

    Reply
  25. bobby sharma  December 4, 2016

    Saluet for ur work

    Reply
  26. vikas  December 4, 2016

    Great.…..proud of you ..take care. …..wish u all the best.

    Reply
  27. Sandeep thakur  December 5, 2016

    लेडी सिंघम

    Reply
  28. Ranbir  December 6, 2016

    Mante he yar es ladki ko babita ye tityana ki h ladki

    Reply
  29. Ranbir singh tomar  December 6, 2016

    Es ladki ke department ke log b chor he sale khas kr pion or renjar

    Ye ladki achi mhentee h pr dipartment k log ese bgana chate h

    Reply
  30. Jitender Kanwar  December 7, 2016

    Congrats……….

    Reply
  31. Dinesh Tomar  December 11, 2016

    best of luck. jab tak aap jese employee puri lagan or nishtha se forest ki rakhwali karte rahenge hindustaan hara bhara rahega babita sharma ji
    (Dinesh Tomar Kalatha Aanj Bhoj)

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.